गौरवशाली परंपरा का सराहनीय प्रयास

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह राजनांदगांव में आयोजित देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के शुभारंभ समारोह में न्होंने कहा कि गायत्री परिवार द्वारा देवसंस्कृति विश्वविद्यालय की छत्तीसगढ़ में स्थापना के माध्यम से तक्षशिला और नालंदा विश्वविद्यालय की गौरवशाली परंपरा को पुनर्जीवित करने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ.

राष्ट्रीय नृत्य एवं संगीत महोत्सव

सिरपुर में पहली बार पर्यटन विभाग की ओर से आयोजित होने वाले राष्ट्रीय नृत्य एवं संगीत महोत्सव में तीन दिनों तक चलने वाले इस राष्ट्रीय महोत्सव में छह राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कलाकरों के अलावा राज्य स्तरीय कलाकारों द्वारा भी सिरपुर में अपनी प्रस्तुति दी जाएगी। इस पूरे महोत्सव के दौरान चार सौ से पांच सौ कलाकारों द्वारा सिरपुर में प्रस्तुति देने की संभावना है। प्रदेश में पहली बार आयोजित होने वाले इस राष्ट्रीय महोत्सव में अंतर्राष्ट्रीय टूर एवं ट्रेवल्स ऑपरेटर्स भी आ रहे हैं। इसमें जापान, थाईलेंड, इजराईल, भूटान, मलेशिया, श्रीलंका इत्यादि के ऑपरेटर्स सम्मिलित हैं।महोत्सव के दौर

ग्रामीण पर्यटन योजना

ग्रामीण पर्यटन को विकसित करने की रणनीति एक गांव को विकसित करने की बजाय गांवों के समूहों को अलग.अलग चरणों में विकसित करने पर केंद्रित है।ग्रामीण पर्यटन योजना विशेष रूप से गांवों में ढांचागत सुविधाएं उपलब्धप कराने के लिए बनाई गई थी जिससे ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। बाद में प्रायोगिक आधार पर संयुक्तक राष्ट्र विकास कार्यक्रम UNDP, के साथ मिलकर इंडोजिनस टूरिज़म प्रोजेक्टक ETP,को इसके साथ जोड़ा गया।

अंतर्राष्‍ट्रीय पर्यटक आगमन वृद्धि‍

पर्यटन राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) डॉ. के. चि‍रंजीवि‍ ने 12वीं पंचवर्षीय योजना के लि‍ए पर्यटन पर योजना आयोग द्वारा गठि‍त कार्यकारी दल ने अंतर्राष्‍ट्रीय पर्यटक आगमन में भारत के हि‍स्‍से को वर्ष 2011 के 0.64 के स्‍तर से 12वीं योजना के अंत तक कम से कम 1 प्रति‍शत तक बढ़ाने और 12वीं योजना के दौरान 12 प्रति‍शत से ज्‍यादा की वृद्धि‍ को कायम रखने के लि‍ए घरेलू पर्यटन को पर्याप्‍त सुवि‍धाएं प्रदान करने हेतु पर्यटन उद्योग के संवर्धन के लि‍ए वि‍भि‍न्‍न नीति‍यों की सि‍फारि‍श की है।

छत्तीसगढ़ में उत्पादित वनोपज-वनवासियों के लिए

छत्तीसगढ़, उत्पादित, वनोपज, वनवासि, वन, प्रबंधन

छत्तीसगढ़ में उत्पादित वनोपजों यहां के वनवासियों के लिए अतिरिक्त आमदनी का प्रमुख जरिया है।जंगलों की सुरक्षा के लिए राज्य में जन-भागीदारी को आधार बनाते हुए संयुक्त वन प्रबंधन नीति को आधार बनाया गया है। राज्य के वनक्षेत्र की सीमा से पांच किलोमीटर के भीतर लगभग ग्यारह हजार गांव आते हैं। संयुक्त वन प्रबंधन नीति के तहत इन गांवों में सात हजार 997 वन प्रबंधन समितियां गठित की गई हैं, जिनमें 27 लाख से अधिक ग्रामीण सदस्य के रूप में शामिल हैं। इन समितियों को लगभग तैंतीस हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में जंगलों की सुरक्षा और उनके रख-रखाव तथा विकास की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। सुरक्षा के एवज में इन समितियों

नक्षत्र वाटिका रतनपुर

छत्तीसगढ़ में वन विभाग द्वारा वन संरक्षण की दृष्टि से अनेक वाटिका और रोपणियां बनायी गई हैं,बिलासपुर जिले के रतनपुर के पास विकसित वाटिका इन सबसे जुदा है। लगभग पन्द्रह एकड़ में बनी इस वाटिका को नक्षत्र वाटिका का नाम दिया गया है। यहां प्रत्येक पेड़ को विभिन्न नक्षत्रों का नाम देकर प्रकृति के प्रति लोगों की आस्था को जोड़ने का प्रयास किया गया है। सूर्य, चन्द्रमा, अश्वनी, भरणी, कृतिका, रोहणी, भाद्रपद, मृता, मेघा, श्वाती, मूल, वृहस्पति, उत्तरा, आद्र्रा आदि नाम दिया गया है।यहां लगे सभी वृक्षों को विभिन्न नक्षत्रों का नाम दिया गया है। बरगद, पीपल हर्रा, बहेरा, आंवला, चिरचिरा बड़ी संख्या में फलदार अं

मैनपाट में जलजली

मैनपाट में एक स्थान है जलजली. ऐसा अजूबा पूरी दुनिया में कही नहीं होगा. यहाँ लगभग ५००० वर्गफीट जमीन को आप खुद हिला सकते है. एक बार कही मैंने एक जोक पढ़ा था की दम है तो इस दीवार को हिला के देख और न हो तो तीन पैग पी और दीवार को हिलता हुआ देख . लेकिन जलजली वो जगह है जहा आप बिना पिये धरती को हिला सकते है . आप अगर उस जगह पर जम्पिंग करते है तो पूरी धरती हिलने लगती है. ऐसा अजूबा वाकई दुनिया में मिलना मुश्किल हैPulak Bhattacharya

राज्योत्सव पर पर्यटन क्षेत्र में निजी पूंजी निवेश की सहमति

राज्य स्थापना की 12वीं वर्षगाठ के अवसर राज्योत्सव में छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल के प्रबंध संचालक श्री संतोष मिश्रा और निवेशक कंपनियों के प्रतिनिधियों ने परस्पर सहमति के दस्तावेज पर हस्ताक्षर किये। इनोवेटिव लेजर एंड इंटरटेनमेंट प्रायवेट लिमिटेड बंगलुरु के साथ फन सिटी पार्क के लिए 400 करोड रुपये, टोटल लाईफ इन्फ्रावेंचर्स प्रायवेट लिमिटेड भिलाई के साथ हर्बल प्रोसेसिंग प्लांट के लिए 200 करोड रुपये तथा होटल के लिए 200 करोड रुपये, रूट्स कार्पोरेशन लिमिटेड मुंबई के साथ होटल के लिए 100 करोड रुपये, टेलीमेटिक्स फोर यू सर्विसेस प्रायवेट लिमिटेड बंगलुरु के साथ आईटी के लिए 13 करोड पचास लाख रुपये और ड्राईविं

शिवरीनारायण

शिवरीनारायण, छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख धार्मिक-सांस्कृतिक और पुरातात्विक नगर है। प्रदेश की जीवनदायिनी औरमोक्षदायिनी चित्रोत्पला गंगा-महानदी के उत्तरी तट पर स्थित होनेके कारण इस नगर की महत्ता बढ़ गयी है। प्राचीन काल में महानदी से ही आवागमन और व्यापार होता था। नदियों के तट पर अनेक भव्यता जन्मीं, पल्लवित और मुष्पित हुई है। सन् 1861 से 1891 तक शिवरीनारयण बिलासपुर जिले का एक प्रमुख तहसील मुकयालय था। यहां सन 1882 से 1887 तक भारतेन्दु हरिश्चंद्र के मित्र और सहपाठी ठाकुर जगहमोनसिंह तहसीलदार थे। उन्होंने काशी के समान यहां भी साहित्य का अलख जगाया और यहां के बिखरे साहित्यकारों को जोडक़र उन्हों लेखन को दि

कुंभों की परम्परा में राजिम कुंभ

swami ji at ganesh mandir raipur

रायपुर । छत्तीसगढ़ के प्रयागराज में होने वाला कुंभ खास होगा । दो शंकराचार्यों की सकारात्मक मुलाकात के उपरांत संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से कांची पीठाधीश्वर, जगद्गुरू श्री जयेन्द्र सरस्वती की उपस्थिति को लेकर उनके प्रतिनिधि ने मुलाकात की।राजिमकुंभ इस दफा छठवें वर्ष में है । पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अर्ध कुंभ छठवें वर्ष में कहलाता है । छठे वर्ष का महत्व पहचान कर इस दफा इसे राजिम अर्धकुंभ महापर्व 2011 नाम से पहचाना जाए इस प्रयास में है । 18 से 2 मार्च के दौरान राजिम अर्धकुंभ रहेगा ।

Pages

Subscribe to Chhattisgarh Tourism RSS