विश्व पर्यटन दिवस

chhattisgarhtourism,.chhattisgarh,tourism,

विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर दो दिवसीय समारोह महंत घासीदास संग्रहालय परिसर में शुभारंभ हुआ। विधानसभा के अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अग्रवाल ने समारोह का शुभारंभ करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में पर्यटन विकास की अपार संभावनाएं हैं। संस्कृति और पर्यटन मंत्री श्री दयालदास बघेल की अध्यक्षता में आयोजित समारोह में कृषि और जल संसाधन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल और नगर निगम रायपुर के सभापति श्री प्रफुल्ल विश्व अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस मौके पर बस्तर बैण्ड, मंगेली के पंथी नृत्य, बारूका के रंग सरोवर कलाकारों को शॉल-श्रीफल और प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
विधानसभा अध्यक्ष ने समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि विश्व पर्यटन दिवस दुनिया के सभी देशों में वर्ष 1980 से मनाया जा रहा है। विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ में कार्यक्रम के आयोजन के माध्यम से हम यहां की संस्कृति और पर्यटन के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में पर्यटन क्षेत्र में भी बदलाव आया है। आज पर्यटन उद्योग व्यवसाय के रूप में विकसित हुआ है। छत्तीसगढ़ में कई प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं, जिनके माध्यम से हम देश और दुनिया के पर्यटकों को आकर्षित कर सकते हैं।

छत्तीसगढ़ का पुरातात्विक ऐतिहासिक स्थल सिरपुर, राजिम का कंुभ, बस्तर की कुटुमसर गुफा, खैरागढ़ का इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, भोरमदेव का मंदिर, बारनवापारा का वन्य अभ्यारण्य विश्व प्रसिद्ध है।
पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री दयालदास बघेल ने कहा कि विश्व पर्यटन दिवस के रूप में कार्यक्रम का आयोजन प्रति वर्ष राज्य मं आयोजित किया जा रहा है। कार्यक्रम के माध्यम से छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों, सांस्कृतिक धरोहर और देश-विदेश तक संदेश पहंुचाना है।
इस अवसर पर पर्यटन विभाग के विशेष सचिव श्री संतोष मिश्रा, संचालक संस्कृति श्री राकेश चतुर्वेदी सहित बड़ी संख्या कलाप्रेमी उपस्थित थे।