राजिम कुंभ

राजिम कुंभ ईश्वर की कृपा और संतों के आशीर्वाद

संस्कृति और पर्यटन मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल

संत समागम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ नया राज्य है, लेकिन संत महात्माओं के आशीर्वाद से मात्र 12 वर्षो में ही इस राज्य ने देश के सबसे तेज विकसित हो रहे राज्य के रूप में अपनी पहचान बनायी है। डॉ.

राजिम के त्रिवेणी संगम पर राजिम कुंभ

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल ने प्रसिद्ध तीर्थ नगरी राजिम के त्रिवेणी संगम पैरी, महानदी और सोंढूर नदी के संगम पर पहुँचकर राजिम कुंभ मेले की तैयारियों का जायजा लिया,श्री अग्रवाल ने संगम पर स्थित कुलेश्वर महादेव मंदिर के सामने मेला स्थल, राजिम से चैबेबांधा होते हुए बेलाहीघाट पुल और नेहरूघाट तक की सड़कों की स्थिति, लोमस ऋषि आश्रम के पास संत आश्रम,मेला स्थल पर सुरक्षा, पेयजल, विद्युत, सड़क, यातायात, पार्किंग, साफ-सफाई व्यवस्था के लिए अधिकारियों को विशेष निर्देश देते हुए कहा कि मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। त्रिवेणी संगम के स्थल के

कुंभों की परम्परा में राजिम कुंभ

swami ji at ganesh mandir raipur

रायपुर । छत्तीसगढ़ के प्रयागराज में होने वाला कुंभ खास होगा । दो शंकराचार्यों की सकारात्मक मुलाकात के उपरांत संस्कृति मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से कांची पीठाधीश्वर, जगद्गुरू श्री जयेन्द्र सरस्वती की उपस्थिति को लेकर उनके प्रतिनिधि ने मुलाकात की।राजिमकुंभ इस दफा छठवें वर्ष में है । पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अर्ध कुंभ छठवें वर्ष में कहलाता है । छठे वर्ष का महत्व पहचान कर इस दफा इसे राजिम अर्धकुंभ महापर्व 2011 नाम से पहचाना जाए इस प्रयास में है । 18 से 2 मार्च के दौरान राजिम अर्धकुंभ रहेगा ।

राजिम कुंभ का समापन

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल श्री शेखर दत्त ने महाशिवरात्रि के अवसर पर राजिम कुंभ के समापन समारोह में भगवान राजीव लोचन की पूजा-अर्चना की और राज्य की जनता की खुशहाली के लिए आशीर्वाद मांगा।

छत्तीसगढ़ के प्रयाग के रूप में प्रसिध्द राजिम जनता की आस्था का प्रमुख केन्द्र है। सदियों से यह धार्मिक, पुरातात्वि और ऐतिहासिक दृष्टि से प्रसिध्द है। महानदी, सोंढूर और पैरी के इस संगम त्रिवेणी को परम पुण्य स्थली माना जाता है।

त्रिवेणी संगम पर राजिम कुंभ

छत्तीसगढ़ अनेक धर्मों और सम्प्रदायों की आस्था का प्रमुख केन्द्र है। इसीलिए यहां के निवासियों के दिलों में दया, क्षमा और स्नेह की भावना अधिक होती है छत्तीसगढ़ के प्रयागराज के रूप में प्रसिध्द तीर्थ स्थल राजिम के त्रिवेणी संगम पर माघ पूर्णिमा से अध्यात्म, कला एवं संस्कृति के समागम का राजिम कुंभ शुरू हो गया। राजिम कुंभ मेला महाशिवरात्रि तक चलेगा।

Subscribe to RSS - राजिम कुंभ