छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों का विकास

आदिवासी घोटूल,आदिवासी,घोटूल,

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री दयालदास बघेल ने कहा है कि पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों को और विकसित किया जाएगा, पर्यटन एवं संस्कृति विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय काम-काज की समीक्षा की।छत्तीसगढ़ में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं और इसे बढ़ावा देने हर संभव प्रयास किया जाएगा। पर्यटन के क्षेत्र में नये कार्यों को प्राथमिकता दी जाएगी और पर्यटकों को आकर्षित करने के भी उपाय किए जाएंगे।
पुरखौती मुक्तांगन को छत्तीसगढ़ की परम्परा और संस्कृति के अनुरूप और समृद्ध किया जाएगा। पुरखौती मुक्तांगन में छत्तीगढ़ी ब्यंजन का स्टॉल लगाने की भी जरूरत बताई। गिरौदपुरी की भी सांस्कृतिक केन्द्र के रूप में विकसित किया जाएगा,छत्तीसगढ़ी कलाकारों को महत्व दिया जाएगा।

पर्यटन मंडल के होटल, रिसोर्ट की ऑनलाईन बुकिंग की सुविधा है। पर्यटन मंडल की वेबसाईट www.tourism.cg.gov.in पर बुक किया जा सकता है। इसके अलावा मुद्रित प्रचार-सामग्री जिसमें 35 प्रकार के अंग्रेजी में और 31 प्रकार के हिन्दी ब्रोशर्स, लघुवत्तचित्र एवं विज्ञापन, फिल्म निर्माण, पर्यटन की त्रैमासिक न्यूज लेटर और पर्यटन सूचना केन्द्रों आदि के माध्यम से प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।

राज्य में सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ कला केन्द्र (बहुआयामी सांस्कृतिक संस्थान) प्रारंभ किया जाएगा। इसके लिए इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में दस एकड़ भूमि उपलब्ध कराई गई है। इस केन्द्र के बन जाने से छत्तीसगढ़ के सभी सांस्कृतिक गतिविधियां एक छत के नीचे होगी।

छत्तीसगढ़ के पुरातत्व धरोहरों का प्रदर्शन करने के लिए धरोहर झरोखा स्थापित किए जाएंगे। चिन्हारी योजना के तहत छत्तीसगढ़ के कलाकारों का चिन्हांकन कर उनको परिचय पत्र प्रदान किया जाएगा। रायगढ़ में चक्रधर कत्थक कला संस्थान स्थापित किया जाएगा। प्रदेश के तीन बड़े समारोहों का आयोजन संस्कृति विभाग द्वारा किया जाएगा।

पुरखौती मुक्तांगन में पुरातत्व प्रादर्शों, बस्तर, सरगुजा के हाट बाजार, शिल्पग्राम, बस्तर दशहरा, ग्रामीण आंचलिक परिदृश्य, आदिवासी घोटूल प्रादर्शों का निर्माण कार्य के लिए स्थानीय कलाकारों द्वारा कार्यशाला का आयोजन कराया जाएगा। राज्य संरक्षित स्मारकों में महोत्सव का आयोजन भी होगा।

बैठक में संस्कृति विभाग के संचालक श्री राकेश चतुर्वेदी, छत्तीसगढ़ पर्यटन मंडल के प्रबंध संचालक श्री संतोष मिश्रा, उपस्थित थे।