आश्रम

महाशिवरात्रि पर शाही स्नान

छत्तीसगढ़ के प्रयागराज राजिम के त्रिवेणी संगम पर महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर साधु-संतों ने शाही स्नान किया। विभिन्न सम्प्रदायों, आश्रमों, अखाडों और शक्तिपीठों के साधु-संतों की नवापारा और राजिम में भव्य शोभा यात्रा निकली। पांच नागा साधु घोड़ों पर सवार होकर शोभा यात्रा के आगे-आगे चल रहे थे। धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व तथा संस्कृति मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल तथा कृषि मंत्री श्री चन्द्रशेखर साहू साधु-संतों के साथ शोभा यात्रा में शामिल हुए और संगम पर बने शाही कुंड में महाशिवरात्रि पर पुण्य स्नान किया।

शिवरीनारायण

शिवरीनारायण, छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख धार्मिक-सांस्कृतिक और पुरातात्विक नगर है। प्रदेश की जीवनदायिनी औरमोक्षदायिनी चित्रोत्पला गंगा-महानदी के उत्तरी तट पर स्थित होनेके कारण इस नगर की महत्ता बढ़ गयी है। प्राचीन काल में महानदी से ही आवागमन और व्यापार होता था। नदियों के तट पर अनेक भव्यता जन्मीं, पल्लवित और मुष्पित हुई है। सन् 1861 से 1891 तक शिवरीनारयण बिलासपुर जिले का एक प्रमुख तहसील मुकयालय था। यहां सन 1882 से 1887 तक भारतेन्दु हरिश्चंद्र के मित्र और सहपाठी ठाकुर जगहमोनसिंह तहसीलदार थे। उन्होंने काशी के समान यहां भी साहित्य का अलख जगाया और यहां के बिखरे साहित्यकारों को जोडक़र उन्हों लेखन को दि

Subscribe to RSS - आश्रम